सर्वांगासन के 11 फायदे, विधि और सावधानियां | Sarvangasana Benefits in Hindi

Sarvangasana benefits in hindi : सर्वांगासन को सभी आसनों की रानी (queen of asanas) कहा जाता है। यह योग का एक बेहतरीन आसन है जो शरीर को स्वस्थ व फिट रखने और बीमारियों से बचाने में सहायक होता है। सर्वांगासन के फायदे शरीर के लगभग सभी अंगों को प्राप्त होते हैं। चाहे बात मोटापा कम करने की हो या बालों को टूटने व झड़ने से बचाने की, सर्वांगासन के लाभ (sarvangasana ke labh) हर चीज के लिए बेहतरीन है।

कुछ समय से लोगों के बीच योग का क्रेज बहुत ज्यादा बढ़ गया है, लोग अब फिट व स्वस्थ रहने के लिए योग की तरफ अग्रसर हो रहे है। वैसे तो योग के प्रतेक आसन की अपनी खूबी व फायदे हैं, लेकिन कुछ आसन ऐसे हैं जिनका लाभ पूरे शरीर को प्राप्त होता है और इन्हीं आसनों में “सर्वांगासन” (sarvangasana in hindi) एक हैं। स्वास्थ्य के लिए सर्वांगासन के फायदे (sarvangasana benefits in hindi) अद्धभुत हैं, इसलिए आपको इस योगासन के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी अवश्य ज्ञात होनी चाहिए।

इस आर्टिकल में हम सर्वांगासन के फायदे (benefits of sarvangasana in hindi), सर्वांगासन कैसे करें (sarvangasana kaise kare) और सर्वांगासन करते समय किन जरूरी बातों का ध्यान रखें के विषय में जनेंगे। साथ ही जनेंगे कि किन लोगों को सर्वांगासन का अभ्यास नहीं करना चाहिए।

सर्वांगासन योग क्या हैं | Sarvangasana in Hindi

“सर्वांगासन” यानी सर्व+अंग +आसन, जिसमें “सर्व” का मतलब सभी, “अंग” का मतलब शरीर का हिस्सा और “आसन” का मतलब मुद्रा हैं। इसके नाम से ही जाहिर हो जाता हैं कि यह सभी अंगों का आसन हैं और इससे शरीर के सभी अंगों की कार्यप्रणाली प्रभावित होती हैं। इसीलिए इस आसन को आसनों की रानी (queen of asanas) भी कहा जाता हैं।

सर्वांगासन (sarvangasana in hindi) को अंग्रेजी में शोल्डर स्टैंड पोज (shoulder stand pose) के नाम से भी जाता हैं क्योंकि इस आसन में शरीर का पूरा भार शोल्डर यानी कंधों पर होता हैं। सर्वांगासन के लाभ (sarvangasana benefits in hindi) क्या हैं और सर्वांगासन कैसे करें, जानने के लिए आर्टिकल को आगे पढ़ें।

सर्वांगासन के फायदे | सर्वांगासन के लाभ | Sarvangasana Benefits in Hindi

sarvangasana ke fayde

1. मोटापा कम करने में सहायक

सर्वांगासन के लाभ (sarvangasana benefits in hindi) मोटापा कम करने के लिए बेहतरीन हैं। यह पेट, कमर, कूल्हों व जांघों की अतिरिक्त चर्बी को कम करने में सहायक होता हैं। साथ ही इस आसन के अभ्यास से पेट व कमर की मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं।

यह भी पढ़े : मोटापा और पेट की चर्बी कम करने के लिए 10 बेस्ट योगासन

2. पेट की परेशानियों में फायदेमंद

अनियमित जीवनशैली व गलत खानपान के कारण पेट में कई तरह की समश्याएं उतपन्न होने लगती हैं। पेट की इन समश्याओं में गैस, अपच, एसिडिटी व कब्ज प्रमुख हैं। नियमित सर्वांगासन के अभ्यास से पेट की यह सभी समश्याएं ठीक होने लगती हैं। 

3. पाचन तंत्र मजबूत करने सहायक

sarvangasana benefits in hindi

सर्वांगासन के फायदे (sarvangasana ke fayde) की आगे बात करें तो यह पाचन तंत्र को मजबूत करने का भी कार्य करता हैं। पाचन तंत्र के मजबूत होने से शरीर को भोजन से प्राप्त पोषक तत्व (nutrients) आसानी से मिलने लगते हैं और खाया पिया शरीर में लगने लगता हैं। एक अच्छी सेहत बनाने व पेट की समश्याओं से दूर रहने के लिए पाचन तंत्र का मजबूत होना आवश्यक हैं।

यह भी पढ़े : पाचन शक्ति बढ़ाने के लिए 10 बेहतरीन योगासन

4. थायरॉयड ग्रंथि के लिए लाभकारी

सर्वांगासन के लाभ (benefits of sarvangasana in hindi) थायरॉयड और पैराथायरॉयड ग्रंथियों को भी प्राप्त होते हैं। यह थायरॉइड ग्रंथि (thyroid gland) को सक्रिय करता है और उसका पोषण करता है।

5. बालों के लिए फायदेमंद

बालों का झड़ना व टूटना आज की तारीख में एक आम समस्या हैं और लगभग-लगभग सभी लोग इससे परेशान हैं। बालों के झड़ने की एक वजह यह भी है कि सिर तक ब्लड सही से नहीं पहुंच पाता हैं और बालों को पोषण नहीं मिल पाता हैं। सर्वांगासन योग करने से ब्लड का फ्लो सिर तक अच्छे से पहुंचता हैं, जिसका लाभ बालों को भी मिलता हैं और इससे बाल मजबूत होने लगते हैं। बालों के लिए सर्वांगासन के साथ ही शीर्षासन भी बहुत फायदेमंद होता हैं।

6. चेहरे का ग्लो बढ़ाने में मददगार

बालों के साथ-साथ सर्वांगासन के फायदे (sarvangasana benefits in hindi) चेहरे को भी प्राप्त होते हैं, चेहरे की तरफ ब्लड फ्लो बढ़ने से चेहरे का ग्लो बढ़ता हैं, चेहरे की झुर्रियां कम होती हैं और चेहरा सुंदर और आकर्षक दिखाई देने लगता हैं।

यह भी पढ़े – ग्लोइंग स्किन के लिए 10 आसान योगासन

7. मस्तिष्क के लिए लाभकारी

सिर की ओर ब्लड फ्लो बढ़ने से मस्तिष्क को भी सर्वांगासन के लाभ (sarvangasana ke fayde) प्राप्त होते हैं और इसके नियमित अभ्यास से दिमाग स्वस्थ व तेज होता हैं।

8. तनाव कम करने में सहायक

तनाव से मुक्ति पाने के लिए भी सर्वांगासन का अभ्यास फायदेमंद होता हैं, इसके नियमित अभ्यास से मन शांत रहता हैं, ब्रेन तक रक्त संचार बढ़ता हैं, मन से बुरे विचार दूर होते हैं और बेहतर नींद आती हैं। सर्वांगासन योग के मानिसक लाभ अद्धभुत हैं।

9. कमर दर्द में लाभकारी

सर्वांगासन के फायदे (sarvangasana ke fayde) कमर को मजबूत बनाने में भी काफी अच्छे हैं। सर्वांगासन की स्थिति में कमर जमीन से उपर एकदम सीधी रहती हैं, जिससे सामान्य कमर दर्द में आराम मिलता हैं, कमर मजबूत होती हैं और कमर में लचीलापन आता हैं। जो लोग दिनभर बैठने का कार्य करते हैं उन्हें सर्वांगासन का अभ्यास अवश्य करना चाहिए, जिससे उन्हें कमर से संबंधी कोई परेशानी न हो।

10. यौन समस्याओं में फायदेमंद

सर्वांगासन के लाभ (sarvangasana benefits in hindi) यौन समश्याओं जैसे स्वप्नदोष व शीघ्रपतन के लिए भी अच्छे हैं। साथ ही इससे मासिक धर्म संबंधी परेशानियां भी दूर होती हैं। यह शरीर का स्टैमिना बढ़ाने में भी सहायक होता हैं।

यह भी पढ़े – यौन समस्याओं के लिए वज्रोली मुद्रा के फायदे)

11. मांसपेशियों को मजबूत बनाने में सहायक

सर्वांगासन करने से हाथ, शोल्डर, कमर, पेट, छाती, गर्दन, पैर और कूल्हों की मांसपेशियों पर खिंचाव पड़ता हैं जिससे यह मांसपेशियां मजबूत होती हैं। (बॉडी कैसे बनाये, बॉडी बनाने के असरदार तरीके)

सर्वांगासन के अन्य लाभ | Sarvangasana ke Labh | Benefits of Sarvangasana in Hindi

  • थकान और शारीरिक कमजोरी दूर करने में भी सर्वांगासन लाभप्रद होता हैं।
  • सर्वांगासन (sarvangasana hindi) हृदय और श्वसन क्रियाओं के लिए भी फायदेमंद होता हैं।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity) बढ़ाने के लिए भी सर्वांगासन के फायदे बेहतरीन हैं।
  • यह रीढ़ की हड्डी को मजबूती प्रदान करता हैं।
  • सिरदर्द व माइग्रेन की समस्या में भी सर्वांगासन लाभकारी होता हैं।
  • यह डायबिटीज को नियंत्रित करने में सहायक होता हैं।

सर्वांगासन से पहले कौन से योगासन करें

सर्वांगासन (sarvangasana in hindi) करने से पहले शरीर को थोड़ा गर्म करना और मसल्स को थोड़ा स्ट्रेच करना जरूरी होता हैं, इसके लिए आप सर्वांगासन से पहले ये योगासन कर सकते हैं।

  • बालासन
  • वज्रासन
  • उष्ट्रासन
  • सेतुबंधासन
  • हलासना

सर्वांगासन की विधि | सर्वांगासन कैसे करें | Sarvangasana Kaise Kare

सर्वांगासन के फायदे प्राप्त करने के लिए सर्वांगासन करने का सही तरीका पता होना भी जरूरी हैं। इस आसन का गलत अभ्यास शरीर को क्षति भी पहुंचा सकता हैं। सर्वांगासन कैसे करें (sarvangasana kaise kare) इसे हम निम्न बिंदुओं के माध्यम से जानेंगे।

  • सबसे पहले जमीन पर योगा मैट या कुछ आरामदायक चीज बिछाएं
  • सुखासन या वज्रासन में बैठकर अपनी सांसों को सामान्य करें
  • अब कमर के बल सीधा लेट जाएं
  • अपने हाथों को जमीन पर सीधा रखें
  • अब धीरे-धीरे अपने पैर, कूल्हों और कमर को उपर उठाए
  • अर्ध-हलासन की स्थिति में आ जाए
  • अब दोनों हाथों को जमीन से उठाकर पीठ को सहारा दें
  • हाथों की कोहिनयाँ जमीन पर ही होनी चाहिए
  • अब कूल्हों और कमर को थोड़ा उपर उठाकर एकदम सीधा कर लें, जैसा उपर चित्र में दिखाया गया हैं
  • आपके शरीर का पूरा भार कन्धों व हाथों के  उपरी भाग पर होना चाहिए
  • कोशिश करें की पैर की उंगलियां बिल्कुल नाक की सीध में हो
  • और आपकी ठोड़ी छाती के करीब होनी चाहिए
  • अब इस स्थिति में 30 सेकंड या अपनी क्षमता अनुसार कुछ देर रुके और सांस लेते, छोड़ते रहे
  • इस आसन से बाहर आने के लिए पैर के घुटनों को धीरे-धीरे अपने माथे की ओर लाए और हाथों को जमीन पर रखें
  • बिना सिर उपर किये कमर को नीचे लाए और थोड़ी देर विश्राम करें

सर्वांगासन के बाद कौन से योगासन करें

सर्वांगासन (sarvangasana hindi) से शरीर में ब्लड फ्लो बढ़ जाता हैं और कंधों पर भी ज्यादा जोर पड़ता हैं, इसलिए इस आसन से बाहर आने के बाद कभी भी एकदम से खड़े न हो। बेहतर होगा की आप थोड़ी देर शवासन की स्थिति में लेटे रहें और अपनी सांसों को स्थिर करें। उसके बाद कमर को रेस्ट देने के लिए बालासन भी कर सकते हैं।

सर्वांगासन योग करने का सही समय

सर्वांगासन (sarvangasana in hindi) का अभ्यास आप सुबह या शाम के समय कर सकते हैं। ध्यान रहे की सर्वांगासन का अभ्यास हमेशा खाली पेट ही करें, भोजन में बाद इस आसन का अभ्यास बिल्कुल भी न करें। भोजन में 5 -6 घंटे ही सर्वांगासन का अभ्यास करना उचित होता हैं।   

सर्वांगासन योग में सावधानियां

1. सर्वांगासन (sarvangasana in hindi) का अभ्यास गर्भावस्था में न करें

2. उच्च रक्तचाप की समस्या में भी सर्वांगासन का अभ्यास न करें

3. स्लिप डिस्क या कमर से संबंधी किसी भी गंभीर समस्या में सर्वांगासन का अभ्यास करने से बचें

4. गर्दन या कंधे की चोट या दर्द में भी इस आसन का अभ्यास न करें

5. सिरदर्द, बुखार या किसी भी प्रकार की गंभीर शारीरिक समस्या में भी सर्वांगासन का अभ्यास न करें

6. इस आसन को करते समय शरीर से किसी तरह की कोई जोर जबरदस्ती न करें, अपनी शारीरक क्षमता के अनुसार ही इस आसन का अभ्यास करें

7. शुरूआत में किसी योग विशेषज्ञ की देख-रेख में ही इस आसन का अभ्यास करें तो बेहतर होगा

Sarvangasana Video


Video – VENTUNO YOGA

निष्कर्ष – Conclusion

स्वास्थ्य के लिए सर्वांगासन के लाभ (sarvangasana ke labh) अद्भुत हैं और यह एक शक्तिशाली योगासन हैं। साथ ही देखा जाए तो यह योगासन करने में भी आसान हैं, कुछ दिन का अभ्यास आपको इसमें निपुण बना सकता हैं। उम्मीद हैं की आपको इजी लाइफ हिंदी का यह आर्टिकल सर्वांगासन के फायदे (sarvangasana benefits in hindi) पसंद आया होगा और अब आप सर्वांगासन कैसे करें के बारे में भी पूरी तरह से समझ चुके होंगे।

हेल्थ और योग से जुड़ी इसी तरह की जानकारियों के लिए आप हमारे अन्य आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं और इस आर्टिकल को सोशल मीडिया में भी शेयर कर सकते हैं।

आपके लिए कुछ जरूरी आर्टिकल

Post tags : sarvangasana benefits in hindi, sarvangasana in hindi, sarvangasana ke fayde, sarvangasana benefits hindi, benefits of sarvangasana in hindi, sarvangasana ke labh

Share on:

Hello readers! My name is Deepak Bhatt, a writer and operator of this website. I've completed my studies from Delhi University, and now through my website, I'm motivating people to improve their lifestyle with authentic and tested information.

Leave a Comment