Savasana in Hindi | शवासन योग के 5 बेहतरीन फायदे, विधि और सावधानियां

Savasana in hindi : अगर शवासन को योग का सबसे आसान या सरल आसन कहा जाए तो गलत नहीं होगा, लेकिन यह आसन दिखने में जितना सरल लगता है उतना हैं नहीं। शवासन (savasana in hindi) में दिमाग व मन को एक जगह केंद्रित करने की आवश्यकता होती है, जो शुरुआत कुछ लोगों के लिए आसान नहीं होता।

कुछ लोग आंखे बंद करके सीधा लेटने को शवासन समझ बैठते हैं और इसी गलत विधि से इसका अभ्यास करते हैं, जिसका कोई लाभ नहीं हैं। इस आर्टिकल में हम शवासन करने की सही विधि (शवासन कैसे किया जाता है) और शवासन के फायदे (savasana benefits in hindi) के बारे में जनेंगे।

शरीर को जिस प्रकार पूरा दिन काम करने के बाद रात को आराम की जरूरत होती हैं, उसी प्रकार योगाभ्यास के बाद भी शरीर को आराम की आवश्यकता होती है, जिससे वह फिर से तारो ताजा होकर काम मे लग सके, योगासन अभ्यास के बाद शरीर को यह आराम शवासन (shavasana in hindi) से प्राप्त होता है।

शवासन (savasana in hindi) का अभ्यास मुख्यतः सभी आसनों के बाद किया जाता है। साथ ही दिन में जब भी शरीर या दिमाग में थकान महसूस हो तब भी शवासन का अभ्यास किया जा सकता हैं, यह शरीर की थकान दूर करने और मन को शांति प्रदान करने का कार्य करता है। शवासन के लाभ (savasana ke fayde) इतने बेहतरीन है कि इन्हें जानने के बाद आप भी शवासन योग के मुरीद हो जाएंगे।

शवासन योग क्या है – Savasana in Hindi

शवासन (shavasana in hindi) दो सब्दों से मिलकर बना हैं, जिसमे “शव” का अर्थ मर्तक शरीर और “आसन” का अर्थ बैठने का स्थान या बैठने की मुद्रा हैं। शवासन योग में जमीन में सीधा इस प्रकार लेटना होता हैं जैसे शरीर मे कोई जान न बची हो या जिस प्रकार एक मर्त शरीर जमीन पर पड़ा रहता हैं। इस आसन में शरीर का कोई भी अंग हिलना नहीं चाहिए केवल आपकी सांसे चलेंगी और आपका पूरा ध्यान किसी एक जगह पर केंद्रित रहना चाहिए। इंग्लिश में इसे Corpse Pose भी कहा जाता है।

कहा जाता हैं कि पुराने समय में जब हमारे ऋषि मुन्नी इस आसन का अभ्यास करते थे तो वो सांप के काटने पर भी इस आसन से बाहर नहीं निकलते थे। आपको ऐसा नहीं करना हैं पर इस कथन से इस आसन की उपयोगिता साफ हो जाती हैं कि शवासन कितना महत्वपूर्ण और लाभकारी आसन हैं। कुछ लोग शवासन की मेडिटेशन (ध्यान) से भी तुलना करते हैं, इसके बारे में हम आगे जनेंगे, पहले शवासन के लाभ (benefits of savasana in hindi) व विधि को सही से जान लेते हैं।

शवासन के फायदे – Savasana Benefits in Hindi

savasana in hindi

1. तनाव और चिंता दूर करें 

तनाव और चिंता से दूर रहने के लिए शवासन (savasana in hindi) एक बेहतरीन योगासन हैं, शवासन करने से मन को शांति और दिमाग को आराम मिलता हैं जिससे तनाव व चिंता दूर होती है। दिमाग और शरीर को रेस्ट देने के लिए इस यह आसन बेहद फायदेमंद होता है। 

2. शारीरिक और मानसिक आराम

शवासन (Corpse Pose in hindi) शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की थकावट को दूर करने का काम करता हैं। 10 मिनट शवासन करने से शरीर की दिनभर की थकावट दूर होती हैं (savasana ke fayde) साथ ही इससे दिमाग को भी आराम मिलता हैं।

3. याददास्त बढ़ाने में लाभकारी 

याददास्त व दिमाग को तेज करने के लिए भी शवासन के फायदे (savasana benefits in hindi) बेहतरीन हैं। नियमित इस आसन के अभ्यास से दिमाग की शक्ति बढ़ती हैं और वह पहले से ज्यादा अच्छे तरीके से कार्य करता हैं। 

4. ऊर्जा और स्टैमिना बढ़ाने में सहायक

शरीर में ऊर्जा और स्टैमिना बढ़ाने के लिए भी शवासन योग लाभकारी (savasana ke labh) होता हैं, इसके अभ्यास से शरीर का आलस दूर भागता हैं और शरीर की एनर्जी बढ़ने लगती हैं। जब भी थकावट महसूस हो और शरीर में एनर्जी की आवश्यकता हो तब 10 से 15 मिनट शवासन जरूर करें और फिर इसकी शक्ति देखें।

5. अनिद्रा के लिए शवासन के फायदे

अनिंद्रा यानी नींद न आने की परेशानी के लिए भी शवासन लाभकारी (savasana ke fayde) होता हैं। शवासन से शरीर और मन दोनों को आराम मिलता हैं जिसकी वजह से अच्छी नींद आने में सहायता मिलती हैं। तनाव और चिंता के कारण भी नींद न आने की परेशानी हो सकती हैं, जो शवासन के कारण दूर होती हैं।   

शवासन करने का तरीका – How to do Shavasana (Corpse Pose) in Hindi

1. सबसे पहले शवासन (savasana hindi) करने के लिए किसी शांत व खुली जहग का चुनाव करें, जहाँ आपको कोई डिस्टर्ब न कर सके।

2. योगा मैट या कोई भी साफ कपडा, चादर या चटाई जो भी आपके पास हो, उसे जमीन पर बिछा दें।

3. चटाई पर बैठकर सबसे पहले थोड़ी देर रिलैक्स करें और अपनी सांसों की गति को सामान्य करें। 

4. उसके बाद पीठ के बल चटाई पर सीधा लेट जाएं।

5. आपकी दोनों टांगों के बीच थोड़ा गैप होना चाहिए। 

6. दोनों हाथ जमीन पर शरीर से थोड़ा दूर होने चाहिए, हथेलियां को खुला ऊपर की ओर रखें। 

7. अपनी दोनों आंखें बंद कर लें और आपने शरीर को  एक आरामदायक स्थिति में लाएं।

8. अब धीरे धीरे सांस ले और अपना पूरा ध्यान सांसों पर ही रखे, जिस गति से सांस ले, उसी गति से सांस बाहर छोड़ें। 

9. मन में किसी भी तरह की ख्याल नहीं आने चाहिए और अपने दिमाग को केवल एक जगह केंद्रित करने की कोशिश करें। 

10. इस आसन में आपको नींद भी आ सकती हैं मगर आपको सोना नहीं हैं। 

11. कम से कम 10 मिनट इस आसन में जरूर रहे, अगर आपके पास समय हो तो आप 20 से 30 मिनट तक भी इस आसन में रह सकते हैं। 

12. अंत में धीरे धीरे आंखें खोलकर इस आसन से बाहर आ जाएं।

शवासन योग में सावधानियां  

शवासन कैसे किया जाता है (savasan kaise karen) या शवासन की विधि जानने के बाद यह जानना भी जरूरी हैं की शवासन करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, जिससे की शवासन के पूरे लाभ प्राप्त हो सकें।  

1. शवासन (savasana yoga in hindi) करते समय ध्यान दें की आपके शरीर का कोई भी अंग हिलना नहीं चाहिए, इस आसन में आपका शरीर एक मर्त शरीर की तरह एकदम शांत रहना चाहिए, आपकी केवल सांसें चलनी चाहिए।

2. शवासन करने से पहले पेशाब व पेट साफ कर लें, ताकि आसन करते समय आपको कोई परेशानी न हों। 

3. शवासन (Corpse Pose in hindi)  में अपना पूरा ध्यान किसी एक जगह लगा कर रखें, आपको अपने ध्यान को इधर उधर भटकने नहीं देना हैं। 

4. कुछ लोग शवासन करते समय गहरी नींद में चले जाते हैं, जो शरीर के लिए बुरा तो नहीं हैं मगर इससे आप शवासन के फायदे (savasana benefits in hindi) से वंचित रह सकते हैं।

5. शवासन (savasana in hindi) एक शांत जगह पर ही करें, जहाँ आपको कोई डिस्टर्ब करने वाला न हो। अगर आप ज्यादा शोर वाली जगह पर शवासन करेंगे तो आपका ध्यान बार बार इधर उधर भटक सकता हैं।

शवासन करने का सही समय – Shavasana Karne Ka Sahi Samay

शवासन का अभ्यास सभी योगासन के बाद अंत में करना ज्यादा फायदेमंद होता हैं। इससे शरीर को आराम मिलता हैं और शरीर की सारी थकावट दूर हो जाती हैं। अगर आप एक्सरसाइज करते हैं तो एक्सरसाइज के बाद शवासन कर सकते हैं। इसके साथ ही जब भी आपको शरीर में थकावट महसूस हो या काम की वजह से ज्यादा तनाव बढ़ने लगे तब भी आप शवासन (savasana yoga in hindi) कर सकते हैं।

शवासन कितनी देर करना चाहिए

शवासन आप अपनी क्षमता के अनुसार 2 मिनट से 30 मिनट तक कर सकते हैं। शवासन के फायदे (benefits of savasana in hindi) प्राप्त करने के लिए कम से कम 5 मिनट तक इसका अभ्यास अवश्य करें। जितनी ज्यादा देर तक आप शवासन की स्थिति में रहेंगे उतना बॉडी और दिमाग को आराम मिलेगा जिसका लाभ शरीर को होगा। योगासन के बाद कम से कम 5 मिनट और अलग से समय निकलकर 10-30 मिनट तक शवासन का अभ्यास किया जा सकता हैं। 

शवासन और मेडिटेशन (ध्यान) के क्या अंतर है  

मेडिटेशन और शवासन दोनों ही अलग चीजें हैं, दोनों की तुलना करना सही नहीं हैं और दोनों की अपनी अपनी विशेषताएं हैं। मेडिटेशन और शवासन में कई चीजें एक समान हैं और कई चीजें एक दूसरे से भिन्न हैं। जैसें मेडिटेशन और शवासन में ध्यान एक जगह केंद्रित रहना चाहिए। 

ध्यान हमेशा बैठकर किया जाता हैं जिसमें कमर का एकदम सीधा होना आवश्यक होता हैं जबकि शवासन (shavasana in hindi) लेट के किया जाने वाला आसन हैं। मेडिटेशन का मुख्य कार्य मन में चल रहे बुरे ख्याल या नकरात्मक विचारों को दूर करके मन और दिमाग को थोड़ा आराम देना होता हैं, जबकि शवासन का मुख्य कार्य शरीर को आराम देने का होता हैं, जिससे शरीर की थकावट दूर हो सके।

सारांश – Conclusion

देखा जाए तो शवासन (Corpse Pose in hindi) दिखने में जितना आसान व सरल लगता हैं उतना आसान हैं नहीं। साथ ही शवासन के लाभ (Savasana ke fayde in hindi) शारीरिक स्वास्थ्य के साथ साथ मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बेहतरीन हैं। शवासन का एक बड़ा लाभ यह भी हैं कि इस आसन का अभ्यास लगभग सभी लोग कर सकते हैं और इसे करने में आपको किसी प्रकार का कोई सामान या यंत्र की जरूरत भी नहीं पड़ती। चाहे शरीर बहुत ज्यादा कमजोर हो या फिर शरीर का बहुत ज्यादा वजन हो दोनों ही स्थिति में इस आसन का अभ्यास लाभकारी ही होता हैं।

उम्मीद हैं कि इजी लाइफ हिंदी का यह आर्टिकल शवासन के फायदे (savasana benefits in hindi) आपको पसंद आया होगा। इस आर्टिकल में हमने जाना की शवासन क्या हैं, शवासन कैसे किया जाता हैं, शवासन करते समय किन बातों का ध्यान रखें और शवासन किस प्रकार मेडिटेशन से भिन्न हैं।

इजी लाइफ हिंदी के योग व स्वास्थ्य से जुड़े अन्य महत्वपूर्ण आर्टिकल भी अवश्य पढ़ें। स्वस्थ और फिट रहने के लिए अब आप हमारे साथ फेसबुक व इंस्टाग्राम पर भी जुड़ सकते हैं।

Savasana (Corpse Pose) Video


Video : Yoga For Cure Videos

आपके लिए कुछ उपयोगी पोस्ट 

Post Tags : savasana in hindi, savasana ke fayde, savasana benefits in hindi, savasana hindi, benefits of savasana in hindi, savasana kaise karen, savasana kaise karna chahiye, savasana yoga in hindi

Photo of author

Deepak Bhatt

Hello readers! My name is Deepak Bhatt, a writer and operator of this website. I've completed my studies from Delhi University, and now through my website, I'm motivating people to improve their lifestyle with authentic and tested information.

Leave a Comment

close button